स्कूल प्रिंसिपल ने पार की अश्लीलता की हद! छात्राओं से कहा- ‘कल से कपड़े खोल कर आना, लड़कों को तुम ही बिगाड़ रही हो’

मित्रों इस दुनिया में हर व्‍यक्ति के लिये शिक्षा बहुत ही महत्‍वपूर्ण स्‍थान रखती है, अगर शिक्षा की बात करें तो आज के समय में शिक्षा ग्रहण करना भी एक बहुत ही बड़ी बात है। क्योंकि शिक्षा ही एक है जो कि मानव को दनाव बनने से बचाती है, आपको तो पता ही है कि अगर आज के समय में शिक्षा का अभाव रहा तो आगे का जीवन बहुत ही कष्टमई तरीके से विताना पड़ता है। हालांकि कभी कभी कुछ स्कूलों में कई तरह की घटनाये भी हो जाया करती है, जो सुनने में काफी अजीब लगती है। हाल ही कुछ ऐसी ही घटना सुनने में आ रही है, जिसके अनुसार स्कूल में प्रिंसिपल ने छत्राओं को कह दी इतनी अश्लीलता भरी बातें। जिसके बाद छत्राओं ने निकाल दिया स्कूल प्रिंसिपल के खिलाफ मोर्चा, आइए जाने पूरी खबर।

आपको बता दें कि यह घटना राजगढ़ जिले की है। जहां पर शिक्षक दिवस से एक दिन पहले एक स्कूल प्रिंसिपल ने अश्लीलता की हद पार करते हुए छात्राओं से कहा कि कल से बिना कपड़ों के ही आ जाना स्कूल के लड़कों को तुम ही बिगाड़ रही हो, स्कूल प्रिंसिपल की इस टिप्पणी को लेकर हंगामा हो गया है और स्कूल की छात्राओं ने ही प्रिंसिपल के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है, फिलहाल पुलिस ने आरोपी प्रिंसिपल के खिलाफ पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है, आरोपी प्रिंसिपल अभी फरार है, जिसकी पुलिस तलाश कर रही है। इस घटना के पश्चात लोगों में प्रिंसिपल के खिलाफ काफी गुस्सा दिखा।   

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि राजगढ़ जिले के माचलपुर हायर सेकेंडरी स्कूल खुलने पर शनिवार को 11वीं और 12वीं कक्षा की कुछ छात्राएं सामान्य कपड़ों में स्कूल पहुंच गईं, इस पर नाराजगी जताते हुए स्कूल के प्रिंसिपल राधेश्याम मालवीय द्वारा छात्राओं पर सार्वजनिक रूप से भद्दी टिप्पणी की गई, प्रिंसिपल ने कहा कि “कल से बिना कपड़ों के ही आ जाना स्कूल, लड़कों को तुम ही बिगाड़ रही हो,” इसके अलावा भी प्रिंसिपल ने कई अपमानजनक बातें कहीं, इस बात से नाराज होकर स्कूल की छात्राओं ने एकत्रित होकर स्कूल से थाने तक रैली निकाली और पुलिस से इसकी शिकायत की। शिकायत के आधार पर पुलिस ने आइपीसी की धारा 355 और 509 सहित पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है, जैसे ही घटना के बारे में पता चला तो छात्राओं के परिजनों और नेताओं ने भी इस पर नाराजगी जाहिर की है और प्रिंसिपल के निलंबन और तुरंत गिरफ्तारी की मांग की है, शिक्षक दिवस के मौके पर जहां टीचर्स की महिमा का गुणगान किया जा रहा है, वहीं ऐसे टीचर्स, गुरु शिष्य परंपरा को धूमिल कर रहे हैं। इस संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है? मित्रों अधिक रोचक बाते व लेटेस्‍ट न्‍यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

Leave a comment

Your email address will not be published.