स्कूल की प्रिंसिपल ने हटवा दिया हिन्दू बच्चो का कलावा और राखी

मित्रों इस बात में तो कोई दो राय नही है कि हर व्‍यक्ति के लिये शिक्षा बहुत ही महत्‍वपूर्ण है, अगर शिक्षा की बात करें तो आज के समय में शिक्षा ग्रहण करना भी एक बहुत ही बड़ी बात है। क्योंकि शिक्षा ही है जो कि मानव को दनाव बनने से बचाती है। अगर आज के समय में शिक्षा का अभाव रहा तो आगे का जीवन बहुत ही कष्टमई तरीके से विताना पड़ता है। हालांकि कभी कभी कुछ स्कूलों में कई तरह की घटनाये भी हो जाया करती है, जो सुनने में काफी अजीब लगती है। हाल ही में एक ऐसी ही घटना सुनने में आई है, जिसके अनुसार स्कूल की प्रिंसिपल ने हिन्दु बच्चों के कलावा और राखी हटवा दिया, आइए जाने पूरी खबर।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले के एक निजी विद्यालय पर बच्चों के हाथ में बंधा कलावा और रक्षाबंधन की राखी को कटवाने का आरोप लगा है, विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने बुधवार को स्कूल की प्रिंसिपल के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया, नगर मजिस्ट्रेट राजेश कुमार ने बताया कि विश्व हिंदू परिषद  की ओर से उन्हें ज्ञापन प्राप्त हुआ है, जिसमें शिकायत की गई है कि शाहजहांपुर शहर के एक प्राइवेट स्कूल में बच्चों के हाथों में बंधी राखी और कलावा कटवा दिया गया, विद्यार्थियों को सख्त हिदायत दी गई कि वे भविष्य में कलावा बांधकर स्कूल न आएं। इस पर विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने राजेश अवस्थी के नेतृत्व में इस मामले को लेकर कलेक्ट्रेट में विरोध प्रदर्शन किया और नगर मजिस्ट्रेट को ज्ञापन सौंपा, ज्ञापन में कहा गया कि छात्र-छात्राओं की मर्जी के बिना राखी व कलावा काट दिया गया जो निंदनीय है, स्कूल में राष्ट्रीय गीत और राष्ट्रगान के बजाय एक धर्म विशेष संबंधी प्रार्थना कराई जा रही है।

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि उपरोक्त के संबंध में विहिप ने आरोप लगाया गया है कि स्कूल की प्रधानाचार्य धर्म विरोधी कार्य कर रही हैं, उनके खिलाफ मामला दर्ज किया जाए, इस मामले में स्कूल की प्राधानाचार्य ने का कहना है कि को-विड-19 संक्रमण को ध्यान में रखते हुए विद्यालय में ब्रेसलेट, घड़ी, अंगूठी आदि ना पहन कर आने के निर्देश दिए गए हैं, उन्होंने बताया कि इसके अलावा जिन बच्चों के हाथ में राखी या धागे बंधे हुए थे, वे काफी पुराने हो गए थे, उनके भीगने से संक्रमण का खतरा उत्पन्न होता है, इसीलिए उन्हें एहतियात के तौर पर हटाने के लिए कहा गया था, उन्होंने कहा कि इस बात को अनावश्यक तूल दिया जा रहा है। इस संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है? मित्रों अधिक रोचक बाते व लेटेस्‍ट न्‍यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

Leave a comment

Your email address will not be published.