शिवसेना फिरसे दे सकती है BJP का साथ,शिवसेना के मंत्री ने दिया ये बड़ा बयान

मित्रों इस बात में तो कोई दो राय नही है कि मोदी सरकार ने जनता से जो वादे किये थे उनको पूरा करके जनता की उम्‍मीदों पर खरा उतरने का काम किया है। आपको बता दें कि मोदी सरकार ने कई महत्‍वपूर्ण योजनाओं के द्वारा जनता को लाभान्वित करने का काम किया है। बीजेपी सरकार ने एक बाद एक  ऐतिहासिक फैसले लेते हुये कई ऐसे काम कर दिये है जो कि शायद ही कोई अन्य सरकार कर पायी हो।  इसी के चलते बीजेपी के कार्यो को देखते हुये शिवसेना एक बार फिर बीजेपी का साथ दे सकती है।

दरअसल पूर्व केंद्रीय मंत्री और शिवसेना पार्टी के नेता अनंत गीते ने बयान देते हुए कहा है कि “राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार कभी भी शिवसेना पार्टी के लिए गुरु नहीं हो सकते। महाराष्ट्र में जारी गठबंधन सरकार के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि शिवसेना, कांग्रेस, ओर NCP के गठबंधन वाली सरकार सिर्फ एक समझौता है। अगर शरद पवार इसे कुछ और समझते हैं तो उनका कुछ भी नहीं हो सकता। क्योंकि शरद पवार ने चुनाव के समय शिवसेना का साथ नहीं दिया था। अनंत गीते ने कहा कि शरद पवार को महाराष्ट्र सरकार का वास्तु कार और धुरी माना जाता है।

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि साल 2019 विधानसभा चुनाव के समय शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी के बीच खटास आ गई थी। साल 2014 से लेकर 2019 तक भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना एक साथ मिलकर महाराष्ट्र में सरकार चला रहे थे। शिवसेना पार्टी के नेताओं द्वारा इस तरह का बयान देने के बाद कई राजनीति के जानकार यह कयास लगा रहे हैं कि अब शिवसेना पार्टी दोबारा से भारतीय जनता पार्टी के साथ आ सकती है।

क्योंकि कांग्रेस पार्टी के साथ उन्हें कोई लाभ नहीं मिल रहा है। बता दें कि अनंत गीते साल 2019 के लोकसभा चुनाव में सुनील तटकरे से कम वोट लाने के कारण सरकार में जगह नहीं बना पाए थे। तटकरे की बेटी अदिति वर्तमान में एमवीए सरकार में राज्य मंत्री हैं। शिवसेना नेता ने कहा, पवार ने कांग्रेस के साथ अनुचित कर अपनी पार्टी बनाई थी। यदि कांग्रेस और राकांपा एक नहीं हो सकते हैं तो शिवसेना भी पूरी तरह से कांग्रेस की नीति पर नहीं चल सकती। मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्‍ट न्‍यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

Leave a comment

Your email address will not be published.