बच्चे के दिमाग में घुसा ऐसा ‘कीड़ा, खा गया अंदर का सबकुछ, डॉक्टर भी नहीं बचा पाए जान

अक्सर बच्चे खेलने के लिए बाहर पार्क में या इधर -उधर जाते रहते है . और खेलते समय वे बिलकुल ध्यान नही देते कि वो कंहा खेल रहे है . बच्चे न समझ होते है इसलिए कभी मिटटी तो कभी पानी में खेलते है .इस बात से अनजान की कीटाणु उनके शरीर में प्रवेश कर रहे है .आज के इस लेख में हम आपको अमेरिका के टेक्सास की बहुत ही हैरान कर देने वाली घटना के बारे में बतायेंगे .दरसल पार्क में खेलने गये बच्चे के स्प्लैश पैड की वजह से ब्रेन ईटिंग अमीबा नाक या मुंह के जरिए बच्चे के दिमाग में चला गया, जिसकी वजह से उस बच्चे की 6 दिन में ही जा-न चली गयी .

क्यों है इतना खतरनाक?

बता दें कि सार्वजनिक पार्कों में स्प्लैश पैड पर लगे स्प्रिंकलर, फव्वारे, नोजल और अन्य जल-स्प्रे की समय-समय पर सफाई नहीं हो पाने के चलते इसपर ब्रेन ईटिंग अमीबा जमा हो जाता है और लोगों को नुकसान पहुंचाता है. ये Amoeba अगर नाक या मुंह के जरिए शरीर में घुस जाए तो जानलेवा हो सकता है. जानकारी के मुताबिक इस ब्रेन ईटिंग अमीबा से संक्रमित होने वाले 95 फीसदी लोगों की मौत हो जाती है.

अधिकारियों ने क्या कहा

टेक्सास शहर के अर्लिंग्टन के अधिकारियों ने कहा कि शहर और टैरेंट काउंटी पब्लिक हेल्थ को 5 सितंबर को सूचित किया गया था कि एक बच्चे को अमीबिक मेनिंगोएन्सेफलाइटिस के संक्रमण की वजह से हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई.

गंदगी में पनपता है ये अमीबा

बच्चे की बीमारी के बारे में जानने के बाद स्वास्थ्य अधिकारियों ने जांच शुरू की. इस बीच अर्लिंग्टन के सभी सार्वजनिक स्पलैश पैड बंद कर दिए. अधिकारियों ने स्प्लैश पैड के पानी में अमीबा की उपस्थिति की पुष्टि की. डिप्टी सिटी मैनेजर लेमुएल रैंडोल्फ (Deputy City Manager Lemuel Randolph) ने कहा, ‘स्प्लैश पैड की रेगुलर साफ-सफाई में कमी पाई गई. हम रख-रखाव के मानकों को पूरा नहीं कर पाए.

Leave a comment

Your email address will not be published.