यूपी पुलिस पर भड़की प्रियंका गांधी, कहा-छू कर देखो मुझे… केस कर दूंगी देखें वीडियो

मित्रों इस बात में तो कोई दो राय नही है कि मौजूदा सरकार ने अपराध मुक्त प्रदेश अभियान के तहत कई महत्वपूर्ण कदम उठाये है। ऐसे में प्रदेश सरकार की इस कार्यवाही से जहां माफिया गिरोहों में दहशत का माहौल है, तो वहीं दूसरी ओर अन्य राजनीतिक दलों के लिए यह एक ऐसी लकीर है जिसे छोटी कर पाना नामुकिन होगा। वहीं जैसे जैसे चुनाव नजदीक आते जा रहे है वैसे वैसे विपक्षी पार्टियां सक्रिय होती हुई दिख रही है। क्योंकि लखीमपुर हिंसा में 4 किसानों सहित 8 लोगों की मौत को लेकर विपक्षी पार्टियां अपनी राजनीतिक रोटियां सेकने में लगी हुई है।

दरअसल तिकोनिया-बनबीरपुर मार्ग पर नाराज किसानों ने दो वाहनों में आग लगा दी। इस घटना में चार किसानों तथा वाहनों पर सवार चार अन्य लोगों की मौत हो गई। लखीमपुर खीरी के तिकोनिया क्षेत्र में हुई हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत के मामले में सोमवार तड़के मौके पर जाते वक्त सीतापुर में हिरासत में ली गईं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने इसके विरोध में अनशन शुरू कर दिया। प्रियंका गांधी ने अधिकारियों को धमकी दी कि वह उनके खिलाफ छेड़छाड़ और अपहरण का मामला दर्ज कराएंगी। गांधी का वीडियो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल हो गया, जहां वह पुलिस को धमकाती नजर आईं। उसने कहा, “क्या आप मुझे इसमें बैठने के लिए मजबूर कर रहे हैं।

पुलिस वाहन की ओर इशारा करते हुए? क्या तुम मेरा अपहरण करने की कोशिश कर रहे हो? कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश के पुलिस अधिकारियों से कहा कि हिम्मत हैं तो मुझे छूकर दिखाओ। पहले मेरे खिलाफ वारंट लेकर आओ। महिला से बात करना सीखो। वहीं पुलिस अधिकारी ने कहा कि अगर उसने उन्हें हिरासत में नहीं लेने दिया तो वह उसे गिरफ्तार कर लेंगे। उसने कहा, “मुझे गिरफ्तार कर लो। मैं खुशी-खुशी तुम्हारे साथ चलूंगी।” पुलिस अधिकारी ने कहा, “आपको कौन मजबूर कर रहा है? हम नहीं कर रहे हैं।” उसने जवाब दिया, “तुम मुझे धक्का दे रहे हो। यदि आप ऐसा करते रहे तो उस पर मारपीट, अपहरण का प्रयास, अपहरण का प्रयास, छेड़खानी का प्रयास, नुकसान पहुंचाने के प्रयास के मामले दर्ज होंगे। क्या मेरी बात तुम्हारी समझ में आ रही है? मैं सब कुछ समझता हूँ। मुझे छूने की कोशिश करो।”

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने बताया कि प्रियंका तथा कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य दीपेंद्र हुड्डा समेत कुछ वरिष्ठ नेता लखीमपुर खीरी जा रहे थे, तभी तड़के करीब पांच बजे रास्ते में सीतापुर में उन्हें हिरासत में ले लिया गया और पीएसी के परिसर में भेज दिया गया। उन्होंने पुलिसकर्मियों पर प्रियंका से धक्का-मुक्की का भी आरोप लगाया और कहा कि कांग्रेस महासचिव किसानों का दर्द बांटने जा रही थीं और उन्हें इस तरह से रोका जाना अलोकतांत्रिक है।

इस बीच, कांग्रेस के एक प्रवक्ता ने बताया कि प्रियंका ने खुद को रोके जाने के विरोध में पीएसी कैंप कार्यालय कक्ष में अनशन शुरू कर दिया। प्रवक्ता ने आरोप लगाया कि प्रशासन ने प्रियंका को बहुत गंदे कमरे में रखा। प्रवक्ता के मुताबिक कांग्रेस महासचिव ने खुद झाड़ू से कमरे को साफ किया। इससे जुड़ा एक वीडियो भी काफी प्रसारित हो रहा है। इस जानकारी के संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है। मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्‍ट न्‍यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

Leave a comment

Your email address will not be published.