उत्तर प्रदेश चुनाव का आया सबसे बड़ा सर्वे,इस पार्टी की बनेगी सरकार,मुश्किल में योगी

मित्रों जैसा की आप सभी अवगत ही होगें कि बीजेपी सरकार हर जगह अपनी उपस्थिति दर्ज कराती जा रही है, और बीजेपी ने अपनी छवि को जनता के नजरों में बहुत ही अच्‍छी बना ली है, क्‍योंकि बीजेपी ही एक ऐसी सरकार है जो कि जनता की उम्‍मीदों पर खरा उतरने में कोई कमी नही छोड़ी है। आपको बता दें कि बीजेपी सरकार देश को लगातार प्रगति की ओर ले जा रही है, यह बात अब जग-जाहिर है, कि जबसे केंद्र में बीजेपी आई है, देश लगातार आगे बढ़ रहा है, और विदेशों ने भी भारत का लोहा मान लिया है। बीजेपी सरकार पर लोगों का भरोसा दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा जिसका प्रमाण हाल ही के एक सर्वे में दिख रहा है।

आपको बता दें कि एबीपी-सीवोटर-आईएएनएस स्टेट ऑफ स्टेट्स 2021 के नए ट्रैकर के अनुसार, उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव भाजपा और समाजवादी पार्टी के बीच कड़ा मुकाबला होने के आसार हैं। सीवोटर के संस्थापक यशवंत देशमुख ने कहा कि लखीमपुर खीरी की घटना ने प्रतियोगिता को बहुत ही पक्षपातपूर्ण और ध्रुवीकरण कर दिया है। देशमुख ने कहा कि भाजपा विरोधी वोट सपा के पीछे मजबूत हो रहे हैं और चुनाव से पहले बसपा और कांग्रेस जैसे अन्य दलों के विकास की गुंजाइश अब सीमित है। देशमुख ने कहा कि सपा को एक बड़ा बढ़ावा मिल सकता है, यदि उनके नेता अखिलेश यादव मैदान में उतरते हैं और यहां तक कि उनके पिता मुलायम सिंह यादव की तुलना में 1 प्रतिशत भी सक्रिय होते हैं, अन्यथा वोट शेयर का अंतर भाजपा के पक्ष में होगा। एबीपी-सीवोटर-आईएएनएस स्टेट ऑफ स्टेट्स 2021 के नए ट्रैकर 4 सितंबर से 4 अक्टूबर के बीच पांच चुनावी राज्यों की 690 विधानसभा सीटों पर 98,121 सैंपल साइज के साथ आयोजित किया गया था। 69.6 फीसदी ने कहा कि लखीमपुर जैसी घटनाओं से उत्तर प्रदेश सरकार की छवि खराब हो रही है। कम से कम 59.6 प्रतिशत ने कहा कि लखीमपुर की घटना उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनावों में भाजपा के लिए हानिकारक साबित हो सकती है। कुल 63.2 प्रतिशत ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति के कारण यूपी सरकार की छवि खराब होती हुई दिख रही है।

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि इस सर्वे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा राज्य में 245 सीटों के साथ जीत रही है, उसके बाद सपा 134 सीटों पर जीत रही है। बीजेपी को पिछले चुनाव की तुलना में 80 सीटों का नुकसान हो रहा है, जबकि सपा को 86 सीटों का फायदा हो रहा है। एबीपी-सीवोटर-आईएएनएस स्टेट ऑफ स्टेट्स 2021 ट्रैकर के अनुसार, उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकार को अगले साल होने वाले पांच राज्यों-पंजाब,उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में चुनाव के बीच काम के मामले में 39.8 फीसदी का समर्थन मिला है। सर्वेक्षण में अन्य 22.2 प्रतिशत लोगों ने सहमति व्यक्त की वहीं कुछ हद तक उत्तर प्रदेश सरकार के काम से संतुष्ट हैं।

कांग्रेस शासित पंजाब ने ‘बहुत संतुष्ट’ श्रेणी में 12.8 प्रतिशत लोगों ने मामूली स्वीकृति दर्ज की, जबकि राज्य के 56.5 प्रतिशत लोगों ने ‘बिल्कुल संतुष्ट नहीं’ को चुना। पंजाब सरकार के बारे में 19.7 फीसदी लोगों ने कहा कि वे कुछ हद तक संतुष्ट हैं। गोवा सरकार ने काम के संदर्भ में 36.1 प्रतिशत लोग संतुष्ट हैं, इसके बाद उत्तराखंड की पुष्कर सिंह धामी सरकार द्वारा 35.1 प्रतिशत संतुष्टि रेटिंग दर्ज की गई है। हालांकि, सर्वे के मुताबिक, उत्तराखंड में 41.6 फीसदी लोग बिल्कुल भी संतुष्ट नहीं हैं। इसके विपरीत, गोवा में ‘बिल्कुल संतुष्ट नहीं’ श्रेणी में 17.9 प्रतिशत दर्ज किया गया। 34 प्रतिशत लोगों ने मणिपुर सरकार के काम पर संतोष व्यक्त किया, जबकि 15.7 प्रतिशत ने ‘कुछ हद तक संतुष्ट’ को है।

Leave a comment

Your email address will not be published.