चुनाव से ठीक पहले योगी ने मारा सिक्सर,जनता को मिलेंगे 170 करोड़

चुनाव आते ही सभी अपनी अपनी तैयारिया शुरू कर देते है .कि ज्यादा से ज्यादा वोट्स अपनी और कैसे करे .इसके लिए वोटर्स को हर तरह की सुविधाए देने के वादे कर आकर्षित किया जाता है .लेकिन मतदाता समझदार है उन्हें पता उन्हें क्या करना है . विधानसभा चुनाव होने से पहले ही उत्तर प्रदेश जोरो शोरो से तैयारिया की जा रही है .

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार विधानसभा चुनाव से पहले बड़ा दांव खेलने की तैयारी में है। सूबे में सियासी सरगर्मियां बढ़ती देख सरकार 1.70 करोड़ उपभोक्ताओं का बिजली बिल माफ करने की तैयारी में है। इतना ही नहीं ओटीएस योजना के साथ बड़े उपभोक्ताओं को सर चार्ज में 50 फीसदी तक छूट मिल सकती है।इससे एक झटके में योगी सरकार करीब 10 से 12 करोड़ लोगों तक अपनी सीधी पैठ बना सकती है। सूत्रों के अनुसार, नवंबर के आखिर में सरकार इसका ऐलान भी कर सकती है।

OTS और बिल माफी का ऐलान एक साथ करेगी सरकार


बता दें कि सरकार दो किलोवॉट और उससे कम लोड वाले उपभोक्ताओं का बिल माफ करने की तैयारी में है। पावर कॉरपोरेशन और सरकार दोनों से जुड़े एक अधिकारी का कहना है कि बिल माफ करने पर मंथन चल रहा है। चुनाव नजदीक होने की वजह से राजनीतिक दबाव है। यही, वजह है कि पिछले महीने लागू होने वाली एकमुश्त समाधान योजना (ओटीएस योजना) को अभी तक शुरू नहीं किया गया है। ओटीएस और बिल माफी का ऐलान सरकार एक साथ करना चाहती है।

ग्रामीण और छोटे शहरी लोगों को होगा सबसे अधिक लाभ


दो किलोवॉट के सबसे ज्यादा उपभोक्ता ग्रामीण और छोटे शहरों में है। ऐसे में इस योजना का लाभ भी सबसे ज्यादा इन्हीं को मिलेगा। इसमें केवल घरेलू उपभोक्ता ही शामिल होंगे। कमर्शल उपभोक्ताओं को इस छूट से बाहर रखने की तैयारी है। यहां तक की भविष्य में उनका बिल बढ़ाया ही जा सकता है।

यूपी चुनाव से पहले बिजली बिल एक बड़ा मुद्दा


गौरतलब है कि यूपी विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर बिजली बिल एक बड़ा मुद्दा बनता जा रहा है। आम आदमी पार्टी (आप), सपा और कांग्रेस बिजली के बिल में छीट और माफी जैसे दांव खेलकर वोटरों को खुद से जोड़ने की तैयारी कर रही है। आप और सपा ने तो सरकार बनने पर 300 यूनिट बिजली फ्री करने का ऐलान भी कर चुकी है। ऐसे में योगी सरकार विपक्ष को कोई मौका नहीं देना चाहती है।

Leave a comment

Your email address will not be published.