3.5 लाख रूपये की चिल्लर जमा करने बैंक पंहुचा व्यक्ति, तो बैंक का कैशियर बोला क्‍या मेरी नौकरी ले लोगे

मित्रों इस दुनिया में कई ऐसी अजीबो गरीब बाते होती रहती है, जो सोशल मीडिया पर आये दिन सुनने को मिलती ही रहती है, अक्‍सर कुछ लोगों में यह आदत होती है, कि वह चिल्‍लर करेंसी को घर में ही एकत्रित करने लगते है, जो कि आम बात है, पर अगर यही आदत किसी का जूनन बन जायें तो क्‍या होगा पता है। कुछ ऐसा ही एक व्‍यक्ति ने किया है, आपको बता दे कि यह व्‍यक्ति 45 वर्षो तक एकत्रित किये गये सिक्‍कों को जब बैंक लेकर पंहुचा तो वहां के कर्मचारी हैरानी में पड़ गये।

दरअसल इस शख्‍स में सिक्‍के एकत्रित करने का शौख इस कद्र था कि इसने लगातार 45 वर्षो तक सिक्‍के जमा किये। सिक्‍के इतने अधिक है, कि इन चिल्‍लरों को कई बैरल्‍स में भरकर 45 वर्षो तक रखा गया, जिसके पश्‍चात एक दिन इस व्‍यक्ति ने इसके बैंक में जमा करने का फैसला ले लिया, उसके पश्‍चात जो हुआ वो देखकर आप भी सक्‍ते में आ जायेगें। अब आप सोच रहे होगें कि आखिर बैंक में सिक्‍के ले जाने के पश्‍चात आखिर क्‍या हुआ होगा? साथ ही आप के मन में यह भी सवाल उठता होगा कि आखिर ये चिल्‍लर कितने रूपये होगें?

आपकी जानकारी के लिये बता दे कि अक्‍सर लोग चिल्‍लर एकत्रित करते है, तो अधिक अधिक से कुछ ही हजार रूपये एकत्रित कर पाता होगा, पर इस व्‍यक्ति ने तो सारे रिकॉर्ड ही तोड़ डाले, क्‍योंकि इसने जो चिल्‍लर एकत्रित किये है, वो करीब 3.5 लाख रूपये की कैरंसी है। आपको बता दे कि जिसे वह व्‍यक्ति चिल्‍लर समझ कर एकत्रित कर रहा था, उसकी असली कीमत जानकर उसे अपने शौख पर अभिमान हो गया। जानकारी के लिये बताते चले कि जब यह व्‍यक्ति इन चिल्‍लरों को जमा करने के लिये बैंक गया तो बैंक के कर्मचारी ने उससे बोला कि क्‍या मेरी नौकरी ले लोगें। हालांकि नियमता: इस कैरेंसी को उनको जमा की करना पड़ा। इस व्‍यक्ति पर एक पुरानी कहावत फिट बैठ रही है, कि सब्र का फल मीठा होता है। इस संबंध में आप लोगों की क्‍या राय है? कमेंट बॉक्‍स में आवश्‍य लिखें।

Leave a comment

Your email address will not be published.