चोरी करने के बाद मंदिर में चढ़ाते है चोरी का 25% हिस्सा, फिर मांगते है अगली मन्नत ये चोर

मित्रों जैसा की आप सभी अवगत ही होगें कि सोशल मीडिया पर आये दिन किसी न किसी घटना को लेकर चर्चायें होती ही रहती है। बता दें कि हमारी इस दुनिया में ऐसी कई अजीबो गरीब बाते होती ही रहती है, जो कि सुनने के पश्‍चात जल्‍द यकीं नही हो पाती है, कि आखिर यह भी हो सकता है, आस पास की कभी कुछ ऐसी घटनाये हमारे सामने आती है, जो सुनने के पश्‍चात जल्द उनपर यकीन नही हो पाता है। इसी क्रम में आज हम एक ऐसी ही घटना के संबंध में बताने वाले है, जिसमें चोर, चोरी का 25% हिस्सा मन्दिर में चढ़ाते है। फिर ऐसी मन्नत मांगते है,जिसे सुन आप लोग भी हैरा-नी में पड़ जायेगें।       

दरअसल मध्य प्रदेश के इंदौर में गिरफ्तार दो चोरों की कहानी आपको हैरान कर देगी। पुलिस ने ऐसे शातिर चोरों को गिरफ्तार किया है, जो चोरी करने के बाद चोरी के माल का 25% हिस्सा राजस्थान के सांवरिया सेठ मंदिर में चढ़ाते थे। मंदिर में भगवान से प्रार्थना करते थे- हे प्रभु! अगली घटना के लिए सफलता मिले और कभी पकड़े न जाएं, जिससे कि वह लगातार भगवान के दरबार में आ सकें और उन्हें चढ़ावा चढ़ा सके। बताया जाता है कि ये अपराधी अपराध करने के बाद सांवरिया सेठ मंदिर दर्शन करने जाते है। पुलिस ने आरोपियों से 50 हजार नगद एक बाइक और तीन लाख 50 हजार के सोने के आभूषण बरामद किए हैं। पुलिस चोरों से अन्य वारदातों के बारे में पूछताछ कर रही है। गिरफ्तार शातिर चोर का नाम सुनील और दिनेश है। तुकोगंज पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार किया है।

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि इन दोनों चोरों के दो साथी विष्णु और महेंद्र अभी फरार हैं। पूछताछ में चोरों ने बताया कि वे घर में पहले नौकर बनकर दाखिल होते थे और मौका मिलते ही रुपए और घर में रखे जेवरात लेकर फरार हो जाते थे। दरअसल, 29 सितंबर को साड़ी कारोबारी पलाश जैन के घर चोरी हुई थी। बंगले में काम करने वाले नौकर सुनील और दिलीप फरार थे। दोनों बांसवाड़ा राजस्थान के निवासी हैं। घटना के बाद व्यापारी की पत्नी से यह जानकारी भी निकाली गई कि दोनों को किस आधार पर बंगले में नौकरी दी गई थी। इस जानकारी के संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है। मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्‍ट न्‍यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

Leave a comment

Your email address will not be published.