UP में कांग्रेस को लगा सबसे बड़ा झटका,प्रियंका के करीबी नेता ने छोड़ी पार्टी

यूपी में कांग्रेस नेताओं का पार्टी छोड़ने का सिलसिला जारी है. प्रियंका गांधी की पार्टी में भगदड़ मची हुई है. बता दें कि प्रियंका के सलाहकार हरेन्द्र मलिक और कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष पंकज मलिक ने इस्तीफ़ा दे दिया है. पश्चिमी यूपी में पिता पुत्र की गिनती ताकतवर जाट नेताओं में होती है. पंकज को प्रियंका ने पिछले ही हफ़्ते चुनाव स्ट्रैटजी और प्लानिंग कमेटी का सदस्य बनाया था. हरेन्द्र मलिक सांसद रह चुके हैं जबकि उनके पंकज दो बार कांग्रेस से विधायक रहे. कहा जा रहा है कि दोनों नेता जल्द ही समाजवादी पार्टी में शामिल हो सकते हैं. मलिक परिवार मुज़फ़्फ़रनगर के रहने वाले हैं. 22 अक्टूबर को अखिलेश यादव वहॉं रैली करने वाले हैं. खबर है कि उस दिन हरेन्द्र और पंकज मलिक मंच पर अखिलेश यादव के साथ हो सकते हैं.

कांग्रेस पार्टी से इस्तीफ़ा देने के बाद हरेन्द्र मलिक ने प्रियंका गांधी के करीबी लोगों पर पार्टी को हाईजैक करने का आरोप लगाया. प्रियंका को 17 अक्टूबर से सहारनपुर से प्रतिज्ञा यात्रा शुरू करनी थी. लेकिन इलाक़े के कांग्रेस नेताओं के समर्थन न मिलने से ये कार्यक्रम शुरू नहीं हो पाया. इस बात की भी बड़ी चर्चा है कि सहारनपुर के रहने वाले कांग्रेस नेता इमरान मसूद भी पार्टी छोड़ सकते हैं. वे कई बार कह चुके हैं कि सिर्फ़ समाजवादी पार्टी ही यूपी में बीजेपी को हरा सकती है. हरेन्द्र और पंकज मलिक का कांग्रेस से निकल जाना पार्टी के लिए बड़ा झटका है.

हरेन्द्र मलिक ने अपने राजनैतिक जीवन की शुरूआत चौधरी अजीत सिंह के साथ की थी. तब वे जनता दल में थे. मलिक 1989 मैं जनता दल के टिकट पर खतौनी से पहली बार विधायक बने. इसके बाद लोकदल से वे मुज़फ़्फ़रनगर की बघरा सीट से एमएलए चुने गए. इसके बाद वे समाजवादी पार्टी चले गए. यहां से होते हुए वे इंडियन नेशनल लोकदल से हरियाणा से राज्य सभा के सांसद बने. फिर वे कांग्रेस चले गए. पिछला लोकसभा चुनाव कैराना से लड़े लेकिन हार गए. उनके बेटे पंकज मलिक दो बार विधायक रह चुके हैं. हरेन्द्र मलिक ने अपना इस्तीफ़ा सोनिया गांधी को और पंकज ने यूपी कांग्रेस अध्यक्ष को भेज दिया है. हाल के दिनों में कई नेता पार्टी छोड़ चुके हैं. कहा जा रहा है कि प्रियंका की टीम के लोग के व्यवहार से कांग्रेस के कई नेता नाराज़ चल रहे हैं.

और मेरे पिता ने कांग्रेस से इस्तीफा दिया है. लंबे समय तक पार्टी के लिए काम किया. लेकिन कुछ वजहों से ऐसा फैसला लेना पड़ा. अगले कदम को लेकर इसी हफ्ते में एलान करेंगे.”

Leave a comment

Your email address will not be published.